Saturday, August 4, 2007

आरंभ


दोस्तों,

हिन्द-युग्म को आपने अब तक जो स्नेह और अपनापन दिया, उसके लिए पूरी हिन्द-युग्म टीम हृदय से आभारी है। पाठकों का प्रेम और प्रोत्साहन ही वह सम्बल बना, जिसने हमें साहित्य की अन्य विधाओं में भी उतरने की भी प्रेरणा दी। उसी का परिणाम है, हमारा यह नया ब्लॉग:- कहानी-कलश

हिन्दी कहानी, जिसकी शुरुआत उन्नीसवीं सदी के आरंभ में मानी जाती है, के पास बहुत समृद्ध विरासत है। लेकिन हिन्दी कहानी का वास्तविक विकास द्विवेदी युग में ही शुरु हुआ। उस काल में लिखी गई किशोरी लाल गोस्वामी की इंदुमती कहानी को कुछ विद्वान हिंदी की पहली कहानी मानते हैं। बाबू गोपाल राम गहमरी, चंद्रधर शर्मा गुलेरी ने भी बीसवीं सदी के आरंभ में इस गौरवशाली परम्परा को आगे बढ़ाया।
लेकिन उनके बाद कथा साहित्य के क्षेत्र में प्रेमचंद ने क्रांति ही कर डाली। उनकी तीन सौ से अधिक कहानियां मानसरोवर के आठ भागों में तथा गुप्तधन के दो भागों में संग्रहित हैं। प्रेमचन्द को तो हिन्दी साहित्य का कथा सम्राट कहा जाता है। उनके समय के और कथाकारों में विश्वंभर शर्मा कौशिक, वृंदावनलाल वर्मा, राहुल सांकृत्यायन, पांडेय बेचन शर्मा उग्र, उपेन्द्रनाथ अश्क, जयशंकर प्रसाद, भगवतीचरण वर्मा आदि के नाम उल्लेखनीय हैं।

आधुनिक कहानीकारों में मोहन राकेश, राजेन्द्र यादव, मन्नू भंडारी, कमलेश्वर, भीष्म साहनी, भैरव प्रसाद गुप्त, निर्मल वर्मा जाने-माने नाम हैं।

हिन्दी साहित्य की इसी गौरवशाली परम्परा को आगे बढ़ाते हुए हम आज से कहानी-कलश आरंभ कर रहे हैं। हिन्द-युग्म के इस नए प्रयास के माध्यम से हमारा उद्देश्य वर्तमान में लिखी जा रही कहानियों और कहानीकारों को आपके सामने लाना है। आशा है, आपका प्रेम हमें पूर्ववत मिलता रहेगा।
जो कहानीकार हिन्द-युग्म के सदस्य बनना चाहते हैं, वे हमसे kahani.hindyugm@gmail.com पर सम्पर्क कर सकते हैं। पाठकों के भी अमूल्य सुझाव एवं विचार इसी पते पर सादर आमंत्रित हैं।
भावनाओं के इस समुद्र में गोता लगाने के लिए हम आपका स्वागत करते हैं।

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

12 कहानीप्रेमियों का कहना है :

Seema Kumar का कहना है कि -

कहानी-कलश के लिए शुभकामनाएँ ।

- सीमा कुमार

रंजू का कहना है कि -

बधाई एवं शुभकामनाएँ!....

तपन शर्मा का कहना है कि -

हिंद युग्म जो भी काम कर रहा है हिंदी के लिये वो सराहनीय हैं...हर बार कुछ न कुछ अच्छे कदम उठा रह है हिंदयुग्म... इसी तरह आगे बढ़ता रहे यही उम्मीद है।
कहानी कलश का लिंक यदि हिंदयुग्म के पृष्ठ पर भी आ जाये तो उत्तम होगा।
तपन शर्मा

सिफ़र का कहना है कि -

ढेर सारी बधाईयाँ एवं शुभकामनाएँ

mahendra mishra का कहना है कि -

विगत कई दी नो से मे हिंदी युग्म की गतिविधिओ का अवलोकन कर रहा हू .हिंदी युग्म हिंदी जगत मे जो कार्य कर रहा है सराहना की पात्र है आपके प्रयासो से हिंदी के प्रति लोगो मे सम्मान और रुझान ब ड रहा है.
महेंद्र मिश्रा,जबलपुर

shal का कहना है कि -

कहानी कलश के शुभारम्भ पर ढेर सारी बधाइयाँ
एवं शुभकामनाएँ

Anupama Chauhan का कहना है कि -

Dhero bhadhaaiyaan aapko....

Tara Chandra Gupta का कहना है कि -

kalash ke liye hardik shubhkamnayen

रचना सागर का कहना है कि -

कहानी-कलश के लिए शुभकामनाएँ हिंद युग्म को बधाई एवं शुभकामनाएँ!

-रचना सागर्

mahashakti का कहना है कि -

बधाई व हार्दिक शुभकामनाऐं।

shobha का कहना है कि -

कहानी कलश के लिए शुभकामनाएँ ।

Rakhil का कहना है कि -

Kahani kalash ke liye hamari taraf se bahut bahut badhai.

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)