Monday, July 14, 2008

हिन्द-युग्म के विमल चंद को इस वर्ष का नया ज्ञानोदय नवलेखन पुरस्कार


(दैनिक जागरण)


Vimal Chandra Pandeyनया ज्ञानोदय की ओर से युवा रचनाकारों को प्रोत्साहित करने हेतु प्रतिवर्ष दिये जाने वाले नवलेखन पुरस्कार के गद्य विधा का पुरस्कार हिन्द-युग्म के युवा कहानीकार विमल चंद्र पाण्डेय को मिला है। हिन्द-युग्म के लिए यह बहुत ही गौरव की बात है। विमल चंद पाण्डेय हिन्द-युग्म के कहानी-मंच कहानी-कलश के उप-संपादक भी हैं और हिन्द-युग्म से पिछले १ वर्ष से जुड़े हुए हैं। विगत महीने की आखिरी तारीख को इन पुरस्कारों की उद्घोषणा हुई। विमल इन दिनों समाचार एजेंसी UNI के इलाहाबाद कार्यालय में कार्यरत हैं। इलाहाबाद से प्रकाशित सभी हिन्दी अखबारों ने विमल की इस सफलता पर समाचार प्रकाशित किये थे। लेकिन स्कैन्ड स्वरूप में हमें कल ही प्राप्त हो सकी।


(अमर उजाला)


नवलेखन पुरस्कार प्रतिवर्ष किसी एक गद्य रचना और पद्य रचना के लिए दिया जाता है। (कई बार सम्मिलित रूप से भी पुरस्कार दिये जाते हैं)। इसमें १८ से ३५ वर्ष के युवा रचनाकार अपने प्रथम संग्रह के साथ प्रतिभागी बनते हैं।

विमल चंद्र पाण्डेय के कहानी-संग्रह 'डर' को निर्णायकों ने श्रेष्ठ चुना। इस कहानी संग्रह में कुल १२ कहानियाँ हैं। जिन्हें आप एक-एक करके कहानी-कलश पर पढ़ेंगे। इसी कहानी-संग्रह की एक कहानी 'सफ़र' बहुत पहले कहानी-कलश पर प्रकाशित हुई थी, जिसे पाठकों ने खूब सराहा था। इसके अतिरिक्त विमल चंद्र पाण्डेय की दो कहानियाँ 'समय के शिल्प में प्रेम का कथ्य' और 'तनहाइयां परिंदे की' भी कहानी-कलश पर प्रकाशित हैं।


(यूनाइटेड भारत)


चयन समिति में प्रसिद्ध समालोचक डॉ॰ नामवर सिंह, चित्रा मुद्गल, ममता कालिया और अनामिका शामिल रहीं।


(डेली न्यूज़ एक्टीविस्ट)


हिन्द-युग्म की ओर से युवा रचनाकार गौरव सोलंकी भी इस पुरस्कार के प्रतिभागी रहे। गौरव सोलंकी ने अपने कविता-संग्रह 'एकांत की ख्वाहिशें' और कहानी-संग्रह 'एक लड़की जो नदी बन गई' के साथ सम्मिलित हुए थे।

हिन्द-युग्म परिवार की ओर से विमल चंद्र पाण्डेय को बहुत-बहुत बधाइयाँ।

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)

5 कहानीप्रेमियों का कहना है :

सजीव सारथी का कहना है कि -

ye hind yugm ke liye behad garv ki baat hai vimal ji ko tahe dil se badhayiyan, aapko agar ye puraskaar nahi milta to ashcharya hota, hind yugm ko aap par naaz hai

BRAHMA NATH TRIPATHI का कहना है कि -

मैंने आपकी कहानी डर पढ़ी थी
सच में पुरस्कार लायक कहानी थी वैसे आपने आज हिंद युग्म का नाम ऊँचा किया है
आप पर नाज़ है हम सभी को

तपन शर्मा का कहना है कि -

ये बहुत हर्ष का विषय है.. विमल जी आप को बहुत बधाई हो। आशा करता हूँ कि आप हिन्दी साहित्य की और भी सेवा करें व नाम कमायें.. हिन्दयुग्म के साथ आप हैं ये हमारे लिये गर्व की बात है।

mohan thanvi का कहना है कि -

कहानी कलश पर अपनी रुचि के अध्ययन की इतनी उम्दा सामग्री पा कर अपार प्रसन्नता महसूस कर रहा हूं। शनै शनै ही सही, पढूंगा सब कुछ... जो यहां उपलब्ध है और जो आगे उपलब्ध होगा...। अच्छी साइट के लिए आपको साधुवाद ।

mohan thanvi का कहना है कि -

कहानी कलश पर अपनी रुचि के अध्ययन की इतनी उम्दा सामग्री पा कर अपार प्रसन्नता महसूस कर रहा हूं। शनै शनै ही सही, पढूंगा सब कुछ... जो यहां उपलब्ध है और जो आगे उपलब्ध होगा...। अच्छी साइट के लिए आपको साधुवाद ।

आप क्या कहना चाहेंगे? (post your comment)